Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways
View Content in English
National Emblem of India

डी. एम. डब्ल्यू. के बारे में

इंडेंट एंड सप्लाई

विभाग

समाचार और सूचना

प्रदायक सूचना

निविदा सूचना

ज्ञान केंद्र

हमसे संपर्क करें






Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
डी. एम. डब्ल्यू. के बारे में

डी. एम. डब्ल्यू. के बारे में

डी.एम.डब्‍ल्‍यू.  पटियाला भारतीय रेलवे की पूर्ण रूप से स्वामित्व वाली उत्पादन इकाई है, जिसे अक्टूबर 1981 में “डीज़ल कलपुर्जा कारख़ाना ” (डीसीडब्ल्यू) के रूप में एलको डीज़ल रेलइंजनों के उच्च परिशुद्धता रखरखाव पुर्जों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए स्थापित किया गया था, जो एलको डीजल रेलइंजनों के उच्च परिशुद्धता रखरखाव पुर्जों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए था। यह पटियाला के विरासत शहर में स्थित है और पंजाब का गौरव है। 3000+ कर्मचारियों के साथ, यूनिट अपनी एकीकृत टाउनशिप के साथ 557 एकड़ भूमि पर फैला हुआ है।

परियोजना के चरण- I के तहत इस उद्देश्य को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद, 1989-90 में एलको रेलइंजनों के मध्य-जीवन पुनर्निर्माण (MLR) की एक और प्रमुख गतिविधि चरण- II के तहत शुरू की गई। MLR के दौरान, 2600 HP लोकोमोटिव को 3100/3300 HP लोको में अपग्रेड किया गया, इसके अलावा अन्य रेट्रो-अपग्रेड जैसे AC-DC ट्रांसमिशन आदि को लागू करने के से ईंधन दक्षता में सुधार हुआ और रखरखाव की आवधिकता में कमी आयी। इसकी मुख्य गतिविधियों में परिवर्तन के साथ, यूनिट को फिर से "डीजल लोको आधुनिकीकरण कारख़ाना" संक्षेप में डी.एम.डब्‍ल्‍यू. के रूप में नया नाम दिया गया।

वर्ष 2010-11 से, डी.एम.डब्‍ल्‍यू. / पटियाला ने गैर-रेलवे ग्राहकों से कुछ आदेशों को निष्पादित करने के अलावा भारतीय रेलवे की आवश्यकता को पूरा करने के लिए नए एलको रेलइंजनों का निर्माण शुरू किया। डी.एम.डब्‍ल्‍यू द्वारा अब तक, कुल 2298 पुराने एलको रेलइंजनों का पुनर्निर्माण किया गया है और 227 नए एलको रेलइंजनों का निर्माण किया गया है।

जैसा कि भारतीय रेलवे ने अपने सभी रूटों के पूर्ण विद्युतीकरण के मार्ग को अपनाया, डीएमडब्ल्यू ने डीजल इंजनों के विनिर्माण और एमएलआर गतिविधियों को बंद कर दिया और खुद को एक नए इलेक्ट्रिक रेलइंजन निर्माण यूनिट में बदल दिया। पहला 6000HP IGBT आधारित 3-फेस WAP7 इलेक्ट्रिक लोको डी.एम.डब्‍ल्‍यू. ने फरवरी, 2018 में टर्न आउट किया और  2018-19 से इसका क्रमवार उत्‍पादन शुरू हुआ। इसी प्रकार, डी.एम.डब्‍ल्‍यू. ने भारतीय रेलवे के त्वरित विद्युतीकरण का सहयोग करने के लिए अंडरस्‍लंग इंजनों सहित (DETC/US) नए (8-व्हीलर डीजल इलेक्ट्रिक टॉवर कारों का निर्माण किया। पहला डीईटीसी दिसंबर, 18 में टर्न आउट किया और इसके उत्‍पादन का क्रम 2019-20 से शुरू हुआ ।

यतायात की बदलती मांगों के अनुसार, डीएमडब्ल्यू ने भी मार्च'21 से WAG9HC फ्रेट लोको का निर्माण शुरू किया। वित्त वर्ष 2020-21 के अंत तक, डीएमडब्ल्यू ने कुल 192 WAP7 रेलइंजनों, 3 WAG9HC रेलइंजनों और 127 डीईटीसी का निर्माण किया है।

रेलइंजनों के रखरखाव गतिविधियों का सहयोग करने के लिए, डीएमडब्ल्यू ने लोको शेडों को यूनिट एक्सचेंज स्पेयर्स के रूप में डीजल और इलेक्ट्रिक रेलइंजनों दोनों के मोटराइज्ड बोगियों और मोटराइज्ड व्हील सेटों का निर्माण और आपूर्ति की।

डीएमडब्ल्यू की एक समर्पित ट्रैक्शन मोटर शॉप भी है, जो भारतीय रेलवे द्वारा डीजल और इलेक्ट्रिक इंजन दोनों में उपयोग होने वाली वाली सभी प्रकार की ट्रैक्शन मशीनों के विनिर्माण के साथ-साथ पुनर्वसन का कार्य करती है।

विनिर्माण के साथ-साथ भारतीय रेलवे द्वारा डीजल और इलेक्ट्रिक इंजन दोनों पर भारतीय रेलवे द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी प्रकार की ट्रैक्शन मशीनों का पुनर्वसन करती है।

यह यूनिट अपने हरित साख का दावा भी करती है, क्योंकि इसकी विभिन्न उत्पादन शॉपों पर स्थापित 2MWp रूफटॉप सोलर फोटो वोल्टाइक पावर प्लांट से इसकी ऊर्जा जरूरतों का लगभग 1/3rd पूरा होता है।

अपने विभिन्‍न उत्पाद पोर्टफोलियो के साथ, यह भारतीय रेलवे की एक अनूठी उत्पादन इकाई है, जो उच्च गुणवत्ता मानकों के साथ किसी भी तरह के रोलिंग स्टॉक की मांग को पूरा कर सकती है।

 



Source : DMW आधिकारिक वेबसाइट पर आपका स्वागत है! CMS Team Last Reviewed on: 27-07-2021  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.